- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

सीएम ने रामलला को अस्थाई मंदिर में विराजमान कराया, लॉकडाउन की वजह से श्रद्धालु अभी दर्शन नहीं कर सकेंगे

दो दिन के वैदिक अनुष्ठान के बाद बुधवार तड़के 4 बजे रामलला को गर्भगृह में स्थापित किया गया।

0 6

अयोध्या (संदेशवाहक न्यूज़ डेस्क)। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए घोषित लॉकडाउन के बीच अयोध्या में रामलला को नवरात्र के पहले दिन तिरपाल से निकालकर बुलेटप्रूफ अस्थाई मंदिर में विराजमान कराया गया। दो दिन के वैदिक अनुष्ठान के बाद बुधवार तड़के 4 बजे रामलला को गर्भगृह में स्थापित किया गया। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी, सीएम योगी आदित्यनाथ एवं संत-महंतों की उपस्थिति में रामलला को विराजमान कराया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला की पूजन और आरती में भाग लिया। रामलला अखिल ब्रह्मांड के नायक माने जाते हैं। हालांकि उनकी जन्मभूमि की अस्मिता 492 वर्ष से संक्रमित रही है। विगत नौ नवंबर को सुप्रीम फैसला आने के साथ श्रीराम जन्मभूमि की स्वायत्तता-संप्रभुता सुनिश्चित हुई। इसी क्रम में बुधवार को रामलला को टेंट के अस्थाई मंदिर से स्थानांतरित कर साज-सुविधा युक्त वैकल्पिक गर्भगृह में स्थापित कर दिया गया। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार की शाम साढ़े छह बजे अयोध्या पहुंच गए थे।

मुख्यमंत्री ने मंदिर निर्माण के लिए दिए 11 लाख रुपए

इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि रामलला के मंदिर निर्माण का पहला चरण पूरा हो गया है। जल्द ही भव्य राम मंदिर बनकर तैयार होगा। मुख्यमंत्री ने 11 लाख रुपए का चेक भी रामलला को दान दिया। श्रीराम जन्मभूमि परिसर में नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला को शिफ्ट कर दिया गया। रामलला की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को ही अयोध्या पहुंच गए थे। सीएम योगी आदित्यनाथ ब्रह्ममुहूर्त में साढ़े चार बजे श्रीराम जन्मभूमि परिसर में पहुंचे और लगभग एक घंटा वहां रहे। अब रामलला के दर्शन इसी अस्थाई मंदिर में होगा। लॉकडाउन की वजह श्रद्धालु अभी दर्शन नहीं कर सकेंगे।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने गोद में लेकर रामलला को पहुंचाया वैकल्पिक गर्भगृह

रामजन्मभूमि परिसर में चल रहे अनुष्ठान में सीएम योगी के साथ प्रधान पुजारी सत्येंद्र दास व ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास, श्रीराम जन्मभूमि तीथ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपतराय भी मौजूद रहे। रामलला को सीएम योगी आदित्यनाथ ने, भरत को राजा अयोध्या बिमलेंद्र मिश्र ने, लक्ष्मण को डॉ अनिल मिश्र ने, शत्रुघ्न को दिनेन्द्रदास तथा शालिग्राम भगवान को महंत सुरेश दास ने वैकल्पिक गर्भगृह में पहुंचाया।

नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला को विराजमान करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने देशवासियों को चैत्रशुक्ल प्रतिपदा और नवसंवत्सर की बधाई दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रामलला अपने नए आसन पर विराजमान होकर हम सब पर अपनी कृपा और आशीर्वाद निरंतर प्रदान करते रहेंगे। कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्रदेश वर्तमान में जिस नई वैश्विक बीमारी से सामना करने के लिए तैयार हुआ है उसका दुनियाभर के तमाम संगठनों ने इसकी सराहना की है।

सीएम योगी ने कहा, वैश्विक आपदा कोरोना वायरस से निपटने के लिए केंद्र सरकार न जो दिशा निर्देश दिए हैं हम सबको उसका पालन करना चाहिए ताकि हम इस संकट से निकल सकें। मार्यादा पुरुषोत्म श्रीराम का आहवान करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, उनकी तरह हम भी अपनी मर्यादा में रहाकर इस संकट का सामना करें।

सदियों बाद आया यह क्षण

रामलला की स्थापना के बाद तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों और चुङ्क्षनदा सहयोगियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने भारतीय नववर्ष की बधाई दी और इस दिन को बेहद सौभाग्यशाली बताया। उन्होंने कहा, रामलला की गरिमा का यह क्षण सदियों बाद आया है। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर रामलला से वैश्विक महामारी से लडऩे में सक्षम होने की प्रार्थना भी की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला को शिरोधार्य कर अधिगृहीत परिसर के नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह में पहुंचाया। सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम के उपरांत भोर में रामलला की शिफ्टिंग के कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे। इसके लिए सोमवार से अनुष्ठान आरंभ हो चुका था। 10 वैदिक आचार्यों का समूह ने वेद मंत्रों के साथ रामलला को वैकल्पिक गर्भगृह में स्थापित किया। यह वैदिक विद्वान दिल्ली, प्रयागराज, काशी और अयोध्या के है।

डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने रामलला के लिए छप्पन भोग का प्रसाद भिजवाया, जिसे विश्व हिंदू परिषद के नेताओं ने रामलला को अर्पित किया। प्रदेश के उपमुख्य मंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने श्रीराम लला को छप्पन भोग का प्रसाद समर्पित कर राष्ट्र समाज पर आये संकट से मुक्ति और कल्याण की प्रार्थना की है। देश में लॉकडाउन के चलते वह अयोध्या नहीं पहुंच सके।

हालांकि रामलला के दिव्य-दैवी वैभव और उनसे जुड़ी अप्रतिम आस्था से न्याय तभी संभव होगा, जब भव्य मंदिर निर्माण के साथ प्रभु श्रीराम इस मंदिर के नियोजित-संयोजित भव्य और स्थाई गर्भगृह में विराजमान होंगे। विशेषज्ञों की मानें तो यह सब होने में ढाई से तीन वर्ष का समय लग सकता है। साढ़े नौ किलो चांदी के सिंहासन पर होंगे विराजमान 432 वर्ग फीट के वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला की गरिमा व सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध और दर्शनार्थियों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा गया है। सोमवार को ही श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य एवं अयोध्या राजपरिवार के मुखिया बिमलेंद्रमोहन मिश्र ने साढ़े नौ किलो चांदी का भव्य सिंहासन भेंट किया।

कोरोना की वजह से सीएम का यह दौरा बेहद गोपनीय रखा गया। यहां तक कि कई अधिकारियों को भी इसकी सूचना उनके आगमन के चंद घंटे पहले ही दी गई। लाइव प्रसारण की तैयारी वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा उल्लासपूर्ण समारोह के रूप में प्रस्तावित थी लेकिन, कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका के चलते यह आयोजन वैदिक कर्मकांड तक सीमित रखा गया।

30 अप्रैल को राम मंदिर के लिए भूमि पूजन रामलला को शिफ्ट करने के बाद यहां पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन का समतलीकरण शुरू हो जाएगा। अब अप्रैल के आखिरी सप्ताह में भूमि पूजन भी किया जा सकता है। यहां पर चार अप्रैल को अयोध्या में आयोजित ट्रस्ट की बैठक में इस पर निर्णय लिया जाना है। रास्ते का भी शुद्धिकरण होगा रामलला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र के अनुसार किसी भी नए मंदिर में भगवान को विराजमान कराने से पहले उसकी धर्म संगत मान्यताएं हैं। भगवान को विराजमान करने से पहले जमीन और मंदिर दोनों को पवित्र कराया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

14 + 11 =