- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

COVID-19: 5जी टेक्नोलॉजी से खत्म किया जाएगा कोरोना वायरस

चीन की एक स्टडी के मुताबिक, 5G थर्मल इमेजिंग 'छूत की बीमारी' की मॉनिटरिंग कर सकती है। इसकी मदद से किसी भी चलने वाली वस्तू का तापमान नापा जा सकता है।

0 14

नई दिल्ली (संदेशवाहक न्यूज़ डेस्क)। चीन से फैली महामारी कोरोना वायरस ने दुनियाभर को अपनी गिरफ्त में ले लिया है। वायरस के बढ़ते कहर ने लोगों के सामान्य जीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है। चीन से शुरू हुई इस बीमारी की को खत्म करने का हल भी चीन से निकल रहा है। चीन रोज कोई न कोई तकनीक का सहारा ले रहा है, जिससे इस वायरस का खात्मा किया जा सके। उसे सफलता भी मिली है, चीन ने 5G टेक्नोलॉजी से कोरोना वायरस को खत्म करने का एक उपाय निकाला है।

चीनी कंपनी हुवई और डेलाएट की ज्वाइंट स्टडी

चीन की एक स्टडी के मुताबिक, 5G थर्मल इमेजिंग ‘छूत की बीमारी’ की मॉनिटरिंग कर सकती है। इसकी मदद से किसी भी चलने वाली वस्तू का तापमान नापा जा सकता है। इस तकनीक के जरिए वस्तु को बिना छुए ही तापमान नापा जा सकता है। रिपोर्ट के अनुसार, चीनी कंपनी हुवई (Huawei) और डेलाएट (Deloitte) की ज्वाइंट स्टडी में बताया गया है कि कोरोना वायरस ने पब्लिक हेल्थेकयर सिस्टम पर बहुत ज्यादा प्रभावित किया है।

चीन में कोरोनावायरस का ट्रीटमेंट कर रहे हॉस्पिल्स में टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने ‘हुवई’ के साथ मिलकर 5G नेटर्वक का सेटअप लगाया है। इसकी मदद से स्पीड बढ़ने पर हेल्थकेयर सिस्टम को फायदा मिला है। मरीजों की मॉनिटरिंग, डेटा कलेक्शन जैसे काम करने में काफी राहत मिली है।

स्टडी के अनुसार 5जी टेक्नोलॉजी का सफल होना पब्लिक हेल्थ सेक्टर में एक नए बिजनेस को बढ़ावा दे सकती है। इस टेक्नोलॉजी की मदद से किसी भी मरीज को एक जगह से दूसरे जगह पर ट्रांसफर करते समय लगातार मॉनिटर और एनेलेसिस किया जा सकता है। टेलिकॉन्फ्रेंसिंग की जरूरतों को पूरा करने के भी ये तकनीक काफी कामयाब साबित हुई है, मेडिकल एक्सपर्ट अपने मरीज का कहीं से भी ट्रीटमेंट कर सकते हैं। दूसरे देश में इसको अवेलेबल करने के लिए अगले साल इसके ​लिए स्पेक्ट्रम आवंटन की नीलामी शुरू कर दी जाएगी, इसके बाद सभी टेलीकॉम कंपनियां इसे बाजार में ला सकती हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

16 − eight =