- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

वायु प्रदूषण के नाम पर किसानों का हो रहा उत्पीड़न: भाकियू

धुआं देने वाले उद्योग बंद कराये प्रशासन।

0 17

बाराबंकी (संदेशवाहक न्यूज डेस्क)। अपनी पुरानी मांगो की अनदेखी के साथ भाकियू टिकैतगुट इस समय किसानों के उत्पीड़न को लेकर नाराज है। वायु प्रदूषण के लिए धुंआ उगलने वाली फैक्ट्री भी जिम्मेदार हैं किसान अगर एक पत्ता भी जला दे तो उसका उत्पीड़न किया जाता है। 13 नवम्बर को भाकियू जिले भर में एसडीएम आफिस पर धान लेकर प्रदर्शन करेंगे।

वही ये निर्णय भारतीय किसान यूनियन जिला इकाई की छाया चौराहे पर हुई बैठक में लिया गया।वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राम किशोर पटेल की अध्यक्षता एवं जिला अध्यक्ष अनिल वर्मा के संचालन में हुई इस बैठक में जनपद में वायु प्रदूषण के नाम पर किसानों के उत्पीड़न पर चिंता व्यक्त की। इसके साथ ही विचौलियों व आढ़तियों द्वारा मनमाने दाम पर खरीदे जा रहे धान पर अंकुश नही लगा तो 13 नवम्बर को जनपद की सभी मंडियों और उपजिलाधिकारी कार्यालयों पर किसान धान सहित प्रदर्शन करेंगे।

संगठन द्वारा 31 अक्टूबर को जिलाधिकारी को धान खरीद चालू कराने, मिलर्स व विचौलियों द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर धान क्रय करने, नहरों की सफाई, प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों को रोकने सहित तमाम बिन्दुओ से सम्बंधित ज्ञापन दिया गया था।लेकिन किसी भी मसले पर कोई कार्यवाई नही हुई।जिससे मजबूर होकर जिले के किसान 13 नवम्बर को बाराबंकी मंडी,सफदरगंज मंडी, हैदरगढ़ मंडी, सहित रामनगर व फतेहपुर तहसील में धान सहित प्रदर्शन करेंगे।

जिलाध्यक्ष अनिल वर्मा ने कहा कि वायु प्रदूषण सभी के लिए चिंता का विषय है यह प्रशासन की जिम्मेदारी बनती है कि जनपद धुंआ उगलने वाले सभी उद्योग हालात सामान्य होने तक तत्काल बन्द कराएं अन्यथा भाकियू इसके खिलाफ आंदोलन चलाएगी। इस बैठक में जिला संरक्षक उत्तम वर्मा, महामंत्री हौसिला प्रसाद, मीडिया प्रभारी सतीश वर्मा ‘रिन्कू’ रामानंद, गिरीश चन्द, रईस अहमद,ओम प्रकाश वर्मा, दीपू वर्मा, राधेलाल, लायकराम डी के वर्मा आदि उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

eight + eighteen =