- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

23 साल बाद भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजी लाल भिंडी की प्रजाति, जानें क्या है फायदे

भिंडी की नई प्रजाति विकसित कर ली है, जोकि हरी की बजाय लाल है। जिसका नाम काशी लालिमा रखा गया है।

0 15

लखनऊ (संदेशवाहक न्यूज डेस्क)। उत्तरप्रदेश के वाराणसी में स्थित भारतीय सब्जी अनुसंधान के वैज्ञानिकों को लगातार कोशिश करने के 23 साल बाद एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई। उन्होंने भिंडी की नई प्रजाति विकसित कर ली है, जोकि हरी की बजाय लाल है। जिसका नाम काशी लालिमा रखा गया है।

दूसरे देशों से लाल भिंडी खरीदता था भारत

वैज्ञानिकों ने बताया, यह भिंडी एंटी ऑक्सीडेंट, आयरन और कैल्शिय सहित कई पोषक तत्वों से भरपूर है। इसकी कई किस्मों को विकसित किया गया है। आम भिंडी की तुलना में इसकी कीमत ज्यादा है। काशी लालिमा भिंडी की अलग-अलग किस्मों की कीमत 100 से 500 रुपए किलो तक है। भारत में हरी भिंडी ही फैमस है। लाल रंग की भिंडी सिर्फ पश्चिमी देशों में मिलती है। भारत वहीं से अपने उपयोग के लिए इसे मंगाता है। अब भारत को लाल भिंडी के लिए दूसरे देश का मुंह नहीं देखना पड़ेगा। भारतीय किसान भी इसका उत्पादन कर सकेंगे।

कब शुरू हुई थी भिंडी की खोज

भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान के एक अधिकारी ने बताया, साल 1995-96 में इस भिंडी की खोज के लिए काम शुरू हो गया था। संस्थान से काशी लालिमा भिंडी का बीज आम लोगों के लिए दिसंबर से मिलने लगेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

7 + seventeen =