- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

लॉकडाउन: पीएम के विडियो संदेश से देशवासियों के मनोबल को पहुंची ठेस, कांग्रेस ने कहा

कोरोना वायरस के महासंकट और देश में लागू 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से दीया जलाने की अपील की है।

0 154

नई दिल्ली (संदेशवाहक न्यूज़ डेस्क)। कोरोना वायरस के महासंकट और देश में लागू 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से दीया जलाने की अपील की है। शुक्रवार को अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने अपील की है कि लोग रविवार की रात नौ बजे अपनी बालकनी, घरों के गेट पर आएं और नौ मिनट तक दीया या फिर मोमबत्ती जलाएं। इस अपील पर कांग्रेस पार्टी की ओर से पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा गया है, कांग्रेस का कहना है कि इस वक्त देश की जरूरत डॉक्टरों की सुरक्षा, गरीबों को आर्थिक मदद पहुंचाना और मनरेगा मजदूरों को एडवांस पेमेंट देना है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से देशवासियों के मनोबल को ठेस पहुंची है। क्योंकि लोग उम्मीद लगाए बैठे थे कि प्रधानमंत्री डॉक्टरों के लिए पीपीइ, मनरेगा मजदूरों के लिए एडवांस पेमेंट जैसी बात करेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। लॉकडाउन को लेकर पवन खेड़ा बोले कि आज देश के 60 फीसदी सप्लाई ट्रक रुके हुए हैं, इससे जरूरत के सामान का दाम बढ़ रहा है। ना ही ड्राइवरों को तनख्वाह मिल रही है, देश में सिर्फ 20 फीसदी ही किराना की दुकानें खुल रही हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि सवा सौ करोड़ में अभी तक सिर्फ 50 हजार से कम ही कोरोना के टेस्ट हुए हैं, ऐसे में ये चिंताजनक है।

पवन खेड़ा बोले, प्रधानमंत्री ने इन मसलों पर कुछ भी नहीं कहा। थाली पीटना और अब दीया जलाना, ये सब ठीक है, लेकिन डॉक्टरों की सुरक्षा, मेडिकल सुविधाएं और किसानों को सही दाम मिलना भी काफी जरूरी है। गौरतलब है कि पीएम के संबोधन के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, कांग्रेस नेता शशि थरूर की ओर से भी सवाल खड़े किए गए थे और गरीबों को आर्थिक मदद पहुंचाने की अपील की गई थी।

वहीँ, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने यह दावा करते हुए कहा कि दिल्ली मरकज की एक घटना ने अचानक पूरा माजरा ही बदल दिया। देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में तेजी जरूर आई है, फिर भी यहां की स्थिति यूरोपीय देशों के मुकाबले बेहतर है। भविष्य की तैयारियों पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश के किसी भी कोने में स्वास्थ्य उपकरणों की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि भारत किसी भी स्थिति से निपटने को पूरी तरह तैयार है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

eleven + nineteen =