- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

कश्मीर मुद्दे पर 58 समर्थक देशों का नाम पूछने पर भड़के पाक विदेश मंत्री, कही ये बात

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी कश्मीर मुद्दे पर उनका साथ देने वाले 58 देशों के नाम पूछने पर भड़क गए।

0 4

इस्लामाबाद (संदेशवाहक न्यूज डेस्क)। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी कश्मीर मुद्दे पर उनका साथ देने वाले 58 देशों के नाम पूछने पर भड़क गए। कुरैशी पिछले दिनों पाकिस्तान के एक चैनल पर चर्चा में शामिल हुए थे। इस दौरान शो के होस्ट ने प्रधानमंत्री इमरान खान के संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में समर्थन मिलने वाले ट्वीट पर उनसे सवाल पूछा था।

दरअसल, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान कई बार अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत का विरोध कर चुका है। 10 सितंबर को उसने कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में उठाने की कोशिश की थी। इस पर भारत ने बलुचिस्तान का मुद्दा उठाकर उसे करारा जवाब दिया था।

कुरैशी ने कहा- मैंने ट्वीट में जो लिखा उस पर कायम हूं
न्यूज एजेंसी स्पूतनिक के मुताबिक, शो के होस्ट जावेद चौधरी ने कुरैशी से कहा- आप किस एजेंडे पर काम कर रहे हैं? आप मुझे बताएंगे या अभी तय करना है कि कौन-कौन से देश संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान का साथ देंगे? आप जो चाहें ट्वीट में लिख सकते हैं कि भारत एक दिन में कितने कप चाय पीता है?

इमरान के समर्थन वाले दावे को ट्विटर पर भुनाने को लेकर कुरैशी ने कहा- नहीं, नहीं! आप मुझे वो ट्वीट दिखाइए, जो मैंने लिखा था, न कि प्रधानमंत्री का। आप कह रहे हैं कि यह ट्वीट मैंने किया था, तो फिर दिखाइए।

शो के होस्ट ने उन्हें ट्वीट दिखाया तो कुरैशी बोले- मुझे इसमें कुछ गलत नहीं लगता है। मैंने जो लिखा था उस पर पूरी तरह कायम हूं। इसमें इतने आश्चर्य की क्या बात है। मुझे बताइए आप किसके एजेंडे पर चल रहे हैं?

इमरान ने 12 सितंबर को ट्वीट किया था
कुरैशी के ट्वीट के बाद इमरान खान ने दावा किया था, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में 10 सितंबर को पाकिस्तान के साथ आए उन 58 देशों की सराहना करता हूं। जिन्होंने कश्मीरियों पर भारत के बल प्रयोग को रोकने, घेराबंदी करने, अन्य प्रतिबंधों को हटाने, कश्मीरियों के अधिकारों की रक्षा करने और यूएनएससी प्रस्तावों के माध्यम से कश्मीर विवाद को हल करने की मांगों को मजबूत किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

fifteen + eight =