- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

अबतक सबसे बड़ी कोरोना की राजस्थान में स्क्रीनिंग, 11 लाख लोगों की स्क्रीनिंग, मिले 2400 संदिग्ध

प्रदेश में भीलवाड़ा और झुझुनूं अबतक कोरोना के सबसे संवेदनशील केंद्र बन चुका हैं। वजह-यहां 4 दिन में ही 18 कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं।

0 8

जयपुर (संदेशवाहक न्यूज़ डेस्क)। प्रदेश में भीलवाड़ा और झुंझुनूं अबतक कोरोना के सबसे संवेदनशील केंद्र बन चुका हैं। वजह-यहां 4 दिन में ही 18 कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं। दोनों शहरों में अब तक करीब 11 लाख लोगों की स्क्रीनिंग हो चुकी है। इनमें 43 हाईरिस्क पर हैं, जबकि करीब ढ़ाई हजार संदिग्ध हैं। इन शहरों से सोमवार को एक सुखद और एक चिंताजनक खबर सामने आई है। अच्छी खबर ये कि पिछले 24 घंटे में यहां कोई नया मरीज नहीं मिला। लेकिन चिंता ये है कि भीलवाड़ा के जिस हॉस्पिटल से डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ में कोराेना फैला था, उनके संपर्क में 500 ऐसे लोग भी आए थे, जिनमें 461 लोग राजस्थान के 13 जिलों के और 39 लोग चार अन्य राज्यों के थे। इन्हें भी संदिग्ध माना गया है, लेकिन इनमें से अभी तक किसी की जांच नहीं हुई है।

वही भीलवाड़ा के कलेक्टर राजेंद्र भट्‌ट ने बताया कि जिन जिलों के ये लोग थे, वहां के कलेक्टरों से बात करके इनकी सूचियां भिजवा दी गई हैं। उनसे इन सभी की स्क्रीनिंग कराने को कहा गया है। झुंझुनूं में ऐहतियात के तौर पर प्रशासन ने संदिग्धों को रखने की व्यवस्था बदल दी है। अब कोरोना संदिग्धों को आइसोलेशन के दौरान साथ नहीं रखा जाएगा। ये बदलाव इसलिए किया गया है क्योंकि कोरोना की रिपोर्ट 24 घंटे बाद आ रही है। पूरे जिले से ऐसे लोगों की सूचनाएं मिल रही हैं, जो विदेशों से चुपचाप आकर रह रहे हैं। सोमवार को जिले के 200 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है।

झुझुनूं: 1.14 लाख का सर्वे

सर्वे: 20 हजार 559 घरों के 1.14 लाख लोगों का
कुल संदिग्ध: 61
इटली के लोगों का आइसोलेशन: 117
कुल सैंपल लिए 61 में से अब तक कुल पाॅजीटिव: 4
कुल नेगेटिव: 43
सैंपल जांच रिपोर्ट आनी शेष: 14

भीलवाड़ा: 5392 होम आइसोलेट हैं

सर्वे: 69785 घरों में 3.49 लाख लोगों का
कुल संदिग्ध: 2348
होम आइसोलेशन: 5392
अस्पतालों में स्क्रीनिंग: 9547 लोगों की। इनमें सर्दी, जुकाम के 374 मरीजाें का उपचार हुआ।

क्वारेंटाइन: 144 संदिग्धाें काे भर्ती किया

कोरोनाजोन बन चुके भीलवाड़ा पर आज पूरे देश की नजर है। लोग घरों में कैद हैं। सड़कें सुनसान पड़ी हैं। अब तक 14 लोग पॉजिटिव मिल चुके हैं। इन्हें जिस आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। ऐसे में ये देश का सबसे संवेदनशील वार्ड बन चुका है। यहां भर्ती संक्रमित लोग किस पीड़ा में हैं और इनके इलाज में लगे तीन डॉक्टरों समेत 23 लोग किस तरह का संघर्ष कर रहे हैं।

3 डॉक्टरों समेत 20 के स्टाफ ने खुद आगे आकर सबसे क्रिटिकल वार्ड का जिम्मा संभाला

एमजी हाॅस्पिटल के क्रिटिकल वार्ड में 3 डाॅक्टर, 13 नर्सिंगकर्मी, सात वार्ड ब्वॉय और सफाईकर्मी माेर्चा संभाले हैं। इनके जज्बे को सलाम है क्योंकि इन्होंने खुद सबसे क्रिटिकल वार्ड में काम कराने के लिए नाम लिखाया। इन्हें लीड कर रहे हैं एमजी हाॅस्पिटल के अधीक्षक डाॅ. अरुण गाैड़। वार्ड में कुल 13 कोरोना पॉजिटिव भर्ती हैं। पाॅजिटिव केस की संख्या बढ़ने के कारण आइसोलेशन वार्ड में भर्ती एक-दाे तो मरीज बार-बार राेने लगते हैं।

नर्सिंग स्टाफ और डाॅक्टर्स उन्हें खुद खाना खिलाते हैं। मरीजाें में निगेटिविटी नहीं फैले इसलिए यहां काम करने वाले डाॅक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ उन्हें गाने भी सुनाते हैं। उनकाे गाना गाता देख मरीज भी एक-दूसरे काे पसंदीदा गाने सुनाते हैं। गानों के बाद शुरू हाेता है चुटकलाें का दाैर। जब चुटकलें चलते हैं ताे पूरा वार्ड ठहाकाें से गूंज उठता है। स्टाफ और मरीज एक-दूसराें काे जीवन के सबसे सुखद संस्मरण भी सुनाते हैं।

झुंझुनूं में भी अब होगा पूरे जिले का सर्वे, 200 कमरों का विशेष आइसोलेशन अस्पताल बनाया

शहर में चौथा कोरोना पॉजीटिव मिलने के बाद जिला प्रशासन ने रानी सती मंदिर में 200 कमरों में विशेष आइसाेलेशन अस्पताल बना दिया है। इसमें कोरोना संदिग्धों को शिफ्ट किया गया है। कोरोना पॉजीटिव युवक को रविवार देर रात ही एंबुलेंस से एसएमएस के लिए रैफर कर दिया गया।

राजस्थान के डॉक्टरों की कोशिशों पर मुहर लगाई

कोरोना को हराने वाले राजस्थान के दवा के कॉम्बिनेशन को अब इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने भी मुहर लगा दी है। एसएमएस के 4 डॉक्टरों ने मलेरिया, एचआईवी और स्वाइन फ्लू की दवा से इटली की कोरोना पीड़ित महिला समेत तीन मरीजों को ठीक कर दिया था। चिंताजनक बात ये है कि केन्द्र की (कोविड-19) के लिए गठित नेशनल टास्क फोर्स ने एसएमएस अस्पताल के हमारे डॉक्टरों को कोर टीम में शामिल तक नहीं किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

16 − 16 =