- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

सौरव गांगुली ने महिला आईपीएल को लेकर, कहा- अभी समय लग सकता है

वह महिला क्रिकेट के लिए भी कुछ बड़े फैसले कर सकते हैं।

0 3

मुंबई (संदेशवाहक न्यूज डेस्क)। भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली बीसीसीआई के अध्यक्ष बने हैं उन्होंने कई बड़े फैसले लेकर बदलाव लाने की कोशिश की है। उनके आने के बाद भारत ने पहला डे-नाइट टेस्ट मैच खेला था। अब उम्मीद की जा रही है कि वह महिला क्रिकेट के लिए भी कुछ बड़े फैसले कर सकते हैं। साल 2017 में हुए वर्ल्ड कप में भारतीय टीम फाइनल में पहुंची थी जिसके बाद से देश में महिला क्रिकेट में काफी सुधार आया था।

एग्जीबिशन मैच 2018 में पहला कराया गया था

दो साल पहले बीसीसीआई ने महिला आईपीएल (Women’s IPL) की शुरुआत की थी। पहले सीजन में दो टीमों ने टूर्नामेंट हिस्सा लिया था। इस दौरान केवल एक मैच खेला गया था हालांकि इस मुकाबले में ज्यादा दर्शक नहीं आए थे। यह मुकाबला पहले क्वालिफायर राउंड से पहले रखा गया था। हालांकि 2019 में इसे तीन टीमों का टूर्नामेंट बनाया गया। जयपुर में हुए वुमेन टी20 चैलेंज में दर्शकों का जोश दिखाई दिया। इसके बाद से लगातार डिमांड की जा रही थी कि महिला आईपीएल की शुरुआत की जाए।

चार साल बाद शुरू होगा महिला आईपीएल

सौरव गांगुली ने इस बारे में बात करते हुए का कि महिला आईपीएल की शुरुआत करने में कम से कम चार साल का समय लगेगा। गांगुली ने कहा, ‘हमे इस बारे में सोचना होगा। सात टीमों का आईपीएल कराने के लिए हमें ज्यादा महिला खिलाड़ी चाहिए। इसमें कम से कम चार साल लगेंगे। हमें कोशिश करनी होगी कि पहले राज्य एसोसिएशन मजबूत हो जाएं ताकी वह ज्यादा खिलाड़ी तैयार कर सकें। तभी हम सात टीमों का टूर्नामेंट करा सकते हैं। आज से तीन साल बाद हमारे पास 150-160 खिलाड़ियों का पूल होगा तब हम आईपीएल को आगे बढ़ा सकते है। अभी हमारे पास केवल 50-60 खिलाड़ी हैं जो एक पूरा टूर्नामेंट कराने के लिए काफी नहीं है।

महिला क्रिकेट के लिए काम करेगा बीसीसीआई

हालांकि सौरव गांगुली ने कहा कि फिलहाल वह तीन टीमों से बढ़ाकर इसे चार टीमों का टूर्नामेंट बनाने के बारे में सोच रहे हैं जहां सभी टीमें एक दूसरे से दो-दो बार खेलेंगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महिला क्रिकेट का स्तर बढ़ाने के लिए जरूरी कदम लिए जाएंगे जिसकी शुरुआत घरेलू स्तर पर ही होगी। सौरव गांगुली पहले भी कई बार कह चुके हैं कि वह घरेलू क्रिकेट को और मजबूत करने के लिए काम करेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

three + 9 =