- Advertisement -

- Advertisement -

- Advertisement -

डकवर्थ-लुईस पद्धति को तैयार करने वाले टोनी लुईस का निधन

सीमित ओवरों के क्रिकेट के लिए डकवर्थ-लुईस नियम देने वाले गणितज्ञ टोनी लुईस का बुधवार (1 अप्रैल) को 78 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

0 123

खेल डेस्क (संदेशवाहक न्यूज़ डेस्क)। सीमित ओवरों के क्रिकेट के लिए डकवर्थ-लुईस नियम देने वाले गणितज्ञ टोनी लुईस का बुधवार (1 अप्रैल) को 78 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्होंने साथी गणितज्ञ फ्रैंक डकवर्थ के साथ मिलकर मौसम के कारण बाधित क्रिकेट मैच के लिए 1997 में डकवर्थ-लुईस फॉर्मूला दिया था। इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने बुधवार को कहा, टोनी और फ्रैंक के योगदान कोई नहीं भूल सकता। क्रिकेट उन दोनों का हमेशा ऋणी रहेगा।

आईसीसी ने गणितज्ञ टोनी लुईस की मौत पर दुख व्यक्त किया

टोनी और फ्रैंक के फॉर्मूले को कई बार आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा था। 2014 में, क्वींसलैंड के गणितज्ञ स्टीवन स्टर्न ने आधुनिक दिन स्कोरिंग दरों को ध्यान में रखते हुए नियम में समायोजन किया और 2015 विश्व कप में डकवर्थ-लुईस-स्टर्न विधि को नियुक्त किया गया।

लंकाशायर में पैदा हुए लुईस ने गणित और सांख्यिकी में डिग्री के साथ शेफील्ड यूनिवर्सिटी से स्नातक किया। डकवर्थ के साथ लुईस को क्रिकेट और गणित के लिए उनकी सेवाओं के लिए 2010 के ब्रिटिश सम्मान में MBEs नियुक्त किया गया था।

इस नियम से पहले क्या होता था

इस फॉर्मूले से पहले आईसीसी का नियम सिर्फ टीम का रन औसत ही देखती थी। यानी मैच में जिस टीम ने बारिश के समय ज्यादा औसत से रन बनाए होते थे, उसे विजेता घोषित कर दिया जाता था। इस पुराने नियम में विकेट गिरने की बात का ख्याल नहीं रखा जाता था। जबकि डकवर्थ-लुईस नियम में बारिश से बाधित मैच तक के ओवरों में दोनों टीमों का रन औसत और विकेट को ध्यान में रखा जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

9 − two =